छपरा:भोजपुरी लघु फिल्म “प्रवासी के पीड़ा हुई रिलीज,लिंक को क्लिक कर देखे फिल्म

kaushal bara size (1)छठ पर्व पर भी अपने घर न लौटने वाले प्रवासी मजदूरों की व्यथा को दिखाया गया है फिल्म मेंmodern-public-school-1-800x480

संजय कुमार ओझा, लहलादपुर:देश में और खास कर पूर्वांचल के क्षेत्र बिहार यूपी के सबसे ज्यादा लोग अपने गांव घर से दूर रोजी रोजगार के चक्कर में जाते हैं और वर्षों तक लौट के नहीं आते।उनको बाकी दिनों में तो कुछ खास नहीं समझ आता पर जब पर्व त्योहार खास कर छठ जैसे महापर्व में भी अपने घर लौट कर नहीं आते तो उनका दिल अपने गांव अपने घर आने को तड़प उठता है।लेकिन छुट्टी न मिलने और अन्य कारणों से छठ के मौके पर भी हजारों लोग अपने घर परिवार से दुर रहते है।वैसे ही लाखों मजदूरों के दर्द को भोजपुरी लघु फिल्म “प्रवासी के पीड़ा” में दिखाने की कोशिश की गई है।IMG-20181024-WA0009क्षेत्र के भेटवलिया निवासी युवा लेखक व फिल्म अभिनेता अभिषेक भोजपुरिया ने द्वारा निर्मित यह यह लघु फिल्म लोगों को बेहद पसंद आ रही है।इस फिल्म का कहानी पटकथा व संवाद खुद अभिषेक भोजपुरिया ने लिखा व निर्देशन किया है।orkestra-800x480लघु फिल्म में उन लाखों मजदूरों के दर्द को दिखाया गया है जो इस बार भी छठ में छुट्टी नहीं मिलने के कारण घर नहीं आ पा रहे हैं।आपको बताते चलें कि प्रखंड क्षेत्र के भेटवलिया निवासी अभिषेक भोजपुरिया हमेशा से समस्या पर आधारित फिल्म बनाते रहे हैं।chanakya-800x480इससे पहले इन्होंने किसानो के समस्या पर आधारित फिल्म दोषी के?, लड़कियों पर हो रहे तेजाब से हमले के जबाब में फिल्म “अब बारी हमारी है” हिन्दु मुस्लिम प्रेम को दिखाता फिल्म “काशिम काफ़िर हो गया” बनाया है। इनकी अगले साल बड़े पर्दे की फिल्म “मन के कचोट” रिलिज हो रही है।maa-telcom-800x480

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>