जनता बाजार में यूवक का शव बरामद, हत्या या दुर्घटना ?

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जनता बाजार में यूवक का शव बरामद, हत्या या दुर्घटना आशंका ?

युवक के शरीर पर किसी भी तरह के कोई निशान नही

संजय कुमार ओझा, लहलादपुर: जनता बाजार थाना क्षेत्र के दंदासपुर गांव में सड़क के किनारे शुक्रवार को संदिग्ध हालत मे एक यूवक का शव पुलिस ने बरामद किया है।यूवक की पहचान दंदासपुर गांव के फेकु राम के 27वर्षीय पुत्र पप्पू राम के रुप में हुई है।युवक के परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है।घटना के बाद कुछ आक्रोशित लोगों ने जनता बाजार थाना के समीप आगजनी कर सड़क जाम करने का प्रयास किया।हालांकि जनता बजार थानाध्यक्ष विकास कुमार सिंह और अन्य स्थानीय लोगों के समझाने बुझाने के बाद जाम खत्म कर दिया।उसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए छपरा भेजवाया।वही घरवालों के आरोप पर पुलिस ने दंदासपुर गांव के ही एक यूवक को पुछताछ के लिए हिरासत में लिया है।
इस संबंध बताया जाता है कि जनता बाजार पुलिस को प्रात: लगभग छ: ए सूचना मिली की सड़क के किनारे एक युवक का शव परा है।सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और शव को बरामद कर थाने लाई।बताया जाता है कि शव के पास से मृतक का हीरो होंडा बाइक (बीआर/29एफ/2976) परा था।बाइक को भी बरामद कर पुलिस थाने लाई है।मृत युवक की हत्या हुई है या दुर्घटना,पुलिस गुत्थी सुलझाने में लगी हुई है।क्योंकि युवक के शरीर पर किसी तरह के कोई निशान नही है।मृतक के परिजनों के अनुसार वह शादी वैगरह के मौके पर कुर्सी-समयाना किराया पर देने का व्यवसाय करता था।परिजनों के अनुसार गांव का ही एक युवक पप्पू को ग्यारह बजे रात्रि को बुलाकर ले गया और सुबह होते ही उसके शव मिलने की सूचना मिली।हालांकि पुलिस ने उस युवक से पूछ-ताछ करने के हिरासत में ले लिया है।जनता बाजार थानाध्यक्ष विकास कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है।पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है।

अपने माता-पिता का ज्येष्ठ पुत्र था पप्पू

लहलादपुर: जनता बाजार थाना क्षेत्र के दंदासपुर गांव से पप्पू राम का शव प्राप्त होने के बाद उसके घर में कोहराम मच गया।उसके मां सुधा देवी का रो-रोकर बुरा हाल है तो वहीं पत्नी राजमत्ती देवी रोते-रोते बेहोश हो जा रही है। उसकी पांच वर्षीय पुत्री राधा भौंचक होकर सबका मुंह निहार रही है।वृद्ध माता-पिता का देख-रेख करने वाला पप्पू ही था। वह अपने माता-पिता का ज्येष्ठ पुत्र था तथा गांव में ही रहा करता था।जबकि छोटा भाई शंकर दुसरे प्रदेश में रहता है।मृतक पप्पू की पत्नी राजमत्ती देवी अपने मायके गई हुई थी।अपने पत्ति की हत्या की खबर सुनकर भागी-भागी आई और अपने पत्ति के शव से लिपट कर रोने लगी। इस दृश्य को देखकर वहां उपस्थित लोग अपने आंखों से निकलने वाली आंसुओं को रोक नहीं सके।सबके चीत्कार से थाना परिसर का दृश्य मार्मिक हो गया।सभी को एक ही चिंता थी कि अब विधवा हुई राजमत्ती तथा पांच वर्षीय राधा के साथ-साथ वृद्ध माता सुधा देवी एवं वृद्ध पिता फेंकू राम का परवरिश कौन करेगा ?लोगों द्वारा काफी समझाने-बुझाने पर सभी थाने से घर गये। हत्या के आरोपित रोहित को पुलिस सुबह शव बरामद होने के कुछ देर बाद ही उसके घर से अपने हिरासत में ले ली थी।पुलिस गुत्थी सुलझाने में लगी है कि मृत पप्पू की हत्या हुई है या दुर्घटना। चूंकि स्थिति तथा परिजनों के अनुसार पप्पू की हत्या का संदेह है, जबकि मृतक के शरीर पर हत्या करने जैसी कोई निशान नहीं मिलने से दुर्घटना की आशंका से भी इंकार नही किया जा सकता।पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद भी तस्वीर साफ हो पाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *